February 23, 2024

जयपुर– 28 जनवरी केंद्र एवं राज्य कर्मचारी पुरानी पेंशन बहाली, ठेका कर्मियों की रेगुलराइजेशन, खाली पड़े लाखों पदों को भरने, आठवें वेतन आयोग का गठन व 18 महीने के बकाया डीए का भुगतान करने और निजीकरण की मुहिम के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन करेंगे। जिसमें महिला कर्मचारियों की भूमिका ऐतिहासिक रहेगी।आंदोलन की शुरुआत बजट सत्र में संसद पर प्रदर्शन करके की जाएगी। इसके साथ ही आठ मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर सभी जिलों में कामकाजी महिलाओं की मांगों को लेकर प्रदर्शन किए जाएंगे।

यह फैसला रविवार को स्टेट गवर्नमेंट इंस्टीट्यूट ऑफ एग्रीकल्चर मेनेजमेंट दुर्गापुरा जयपुर में संपन्न हुए दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला सम्मेलन में लिया गया।

सम्मेलन को अखिल भारतीय जनवादी महिला समिति की राज्य महिला सीमा जैन ने सम्मेलन को सम्बोधित किया और अपने संगठन की तरह से हार्दिक बधाई दी। प्रतिनिधियों द्वारा उठाए गए सवालों का अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के महासचिव ए.श्री कुमार ने जबाव दिया। उन्होंने कहा कि महिलाओं को अपने हकों व अधिकारों के लिए संगठित होकर जोरदार तरीके उठाने का आह्वान किया।

सम्मेलन के समापन पर बोलते हुए अखिल भारतीय राज्य सरकारी कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष सुभाष लांबा ने आंदोलन की धोषणा करते हुए कहा कि फरवरी महीने के अंत तक सभी राज्यों में संयुक्त राज्य कर्मचारी सम्मेलन किए जाएंगे और मार्च से जून तक देश के सभी जिलों, तहसील, ताल्लुक व खंडों में कर्मचारी सम्मेलन आयोजित किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि आंदोलन के अगले चरण में जुलाई महीने में देश के चारों कोनों से सैकड़ों कर्मचारी वाहन जत्थे चलाए जाएंगे।

यह जत्थे “रीच टू इच” के नारे के साथ सभी महानगरों, जिला मुख्यालयों, शहरों एवं कस्बों में कर्मचारियों के कार्य स्थलों पर सभाए करते हुए सितम्बर माह में नई दिल्ली पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि दिल्ली में केंद्र सरकार की नव उदारीकरण और समाज का सांप्रदायिक आधार पर ध्रुवीकरण करने तथा कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी के खिलाफ रैली की जाएगी। जिसमें सरकार के खिलाफ निर्णायक आंदोलन का ऐलान किया जाएगा।

उन्होंने दो टूक कहा कि अगर सरकार ने कर्मचारियों की मांगों का समाधान नहीं किया तो भाजपा को हिमाचल की तरह इस साल होने वाले 9 राज्यों के विधानसभा चुनाव और अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में भाजपा को कर्मचारियों की भारी नाराजगी का सामना करना पड़ेगा।

सम्मेलन में हरियाणा के मंत्री संदीप सिंह पर जूनियर कोच और ओलंपियन पहलवान दिनेश फोगाट द्वारा भारतीय कुश्ती फेडरेशन के अध्यक्ष बृज भूषण शरण पर लगे यौन उत्पीडन के आरोपों की निष्पक्ष जांच के लिए दोनों को पदों से बर्खास्त करने सहित सर्व सम्मति से 18 प्रस्ताव पारित किए गए।

तहलका डॉट न्यूज़